प्रमुख दायित्व

उपर

बिंदु क्रमांक 1 (बी)
क्र.

द्रााखा

सौपा गया दायित्व एवं कर्त्तव्य

1

स्टेनो द्रााखा
आयुक्त

यह द्रााखा कार्यालय प्रमुख संभागीय आयुक्त की गोपनीय द्रााखा है जिसमें आयुक्त द्वारा अति विच्चेद्गा महत्व के कार्य जिनकी प्रकृति गोपनीय तौर की होती है, संपादित कराई जाती है। द्रााखा का कार्य वरिद्गठ द्राीघ्रलेखक द्वारा किया जाता है जिसकी सहायता हेतु अन्य सहायकों को भी पदस्थ किया गया है। गोपनीय कार्य के अतिरिक्त आयुक्त द्वारा अन्य सौपा गया कार्य भी इस द्रााखा द्वारा किया जाता है।

2

रीडर द्रााखा
आयुक्त/अपर आयुक्त

इस द्रााखा में अधीनस्थ न्यायालयों द्वारा विभिन्न अधिनियमों /नियमों के तहत पारित आदेच्चों के विरूद्ध अपील, निगरानी, पुर्नावलोकन, विविध अपील आदि प्रस्तुत की जाती है। द्रााखा का कार्य संपादित करने हेतु एक सहायक वर्ग-2 स्तर के कर्मचारी को प्रवाचक के रूप में कार्य करने के लिये पदस्थ किया जाता है। प्रस्तुत प्रकरणों का निराकरण नियमानुसार किया जाता है।
आयुक्त द्वारा विभिन्न अधिनियमों के तहत न्यायालयीन कार्य एवं प्रच्चासनिक कार्य पर नियंत्रण हेतु कुछ दायित्व अपर आयुक्त को सौपे गये हैं। जिस हेतु अपर आयुक्त न्यायालय स्वतंत्र रूप से कार्य संपादित करते हैं जिस हेतु एक स्टेनोग्राफर, 2 प्रवाचक सहायक वर्ग-3 स्तर के वर्तमान में कार्यरत हैं, जो न्यायालयीन प्रकरणों के रख-रखाव एवं अपर आयुक्त द्वारा सौपे गये कार्यों का संपादन करते हैं।

3

अधीक्षक द्रााखा

लिपिक वर्गीय कर्मचारियों के कार्य पर नियंत्रण रखने हेतु अधीक्षक के पद का श्रृजन द्राासन द्वारा किया गया है। अधीक्षक के सहयोग हेतु 5 सहायक अधीक्षकों के पद श्रृजित हैं, जो विभिन्न द्रााखाओं में पदस्थ कर्मचारियों द्वारा प्रस्तुत नस्तियों का नियमों के प्रकाच्च में परीक्षण कर अधीक्षक को प्रस्तुत करते हैं। कार्यालय अधीक्षक द्वारा प्रस्तुत नस्तियों का  विधिवत परीक्षण कर प्रभारी अधिकारी को प्रस्तुत की जाती हैं। तदोपरांत प्रभारी अधिकारी द्वारा नस्ती की प्रकृति के अनुसार नियमों के परिप्रेक्ष्य में नस्तियॉं वरिद्गठों को प्रस्तुत की जाती हैं। वरिद्गठ द्वारा दिये गये आदेच्चों के अनुपालन में कार्यवाही की जाती है।
प्रच्चासनिक कार्य सुविधा की दृद्गिट से आयुक्त कार्यालय हेतु स्वीकृत सेटअप अनुसार निम्नानुसार द्रााखायें कार्यालय में संचालित हैं। प्रत्येक द्रााखा में स्वीकृत मान से कर्मचारियों की पदस्थापना की गई है। प्रत्येक द्रााखा हेतु प्रभारी अधिकारी कार्यरत है जिसके माध्यम से नस्तियॉं क्रमबद्ध रीति से कार्यालय प्रमुख आयुक्त महोदय को प्रस्तुत की जाती हैं। द्रााखावार दायित्व एवं कार्य संपादित करने हेतु कार्य का विभाजन कार्यालय प्रमुख द्वारा किया गया है।

4

स्थापना द्रााखा

इस द्रााखा में भृत्य, सहायक वर्ग-3 के रिक्त पदों की पूर्ति कार्यालय में सहायक वर्ग-3 एवं संभाग के सहायक अधीक्षक एवं कार्यालय के आडीटरों के पदों की पदोन्नति की कार्यवाही एवं इनकी पदक्रम सूची का संधारण के साथ ही कार्यालय में पदस्थ समस्त अधिकारियों एवं कर्मचारियों के सेवा अभिलेख का संधारण किया जाता है। कर्मचारियों के सेवानिवृत्त होने पर पेंच्चन प्रकरणों का निर्धारण एवं अन्य स्वत्वों के निराकरण संबंधी कार्य भी इसी द्रााखा द्वारा किया जाता है।
वर्गीकरण नियमों के तहत कलेक्टर द्वारा पारित दण्डात्मक आदेच्चों के विरूद्ध कर्मचारियों द्वारा प्रस्तुत अपीलों/ निगरानी का निराकरण एवं राजपत्रित अधिकारी वर्ग-1 एवं 2 के अधिकारियों के विरूद्ध अनुच्चासनात्मक कार्यवाही की जाती है। प्रचलित विभागीय जांच के लंबित प्रकरणों का मासिक पत्रक नियमित रूप से द्राासन को भेजा जाता है।

5

राजस्व द्रााखा

द्रााखा में जिला कार्यालय में संपादित राजस्व, खनिज, भू-अर्जन आदि कार्यों की समीक्षा के संबंध में कार्यवाही करने के अतिरिक्त अधीनस्थ कार्यालयों के कार्य पर नियंत्रण हेतु समय-समय पर जिला, अनुभाग एवं तहसील स्तर के कार्यालयों का निरीक्षण कर उनके कार्यों की समीक्षा एवं सुधार हेतु समझाईच्च दी जाती है। राजस्व पुस्तक परिपत्र के तहत संभागीय आयुक्त को सौपे गये अधिकारों के अंतर्गत कार्यवाही करने तथा इस स्तर से द्राासन को प्रस्ताव भेजने का कार्य भी इस द्रााखा द्वारा किया जाता है।  भू-अर्जन अवार्ड संबंधी प्रस्ताव के अनुमोदन की कार्यवाही इसी द्रााखा में की जाती है। समय-समय पर मासिक/ त्रैमासिक बैठकें कलेक्टर कांफें्रस के रूप में आयोजित कर कलेक्टर एवं विभागीय अधिकारियों के साथ समीक्षा कर आवच्च्यक निर्देच्च दिये जाते हैं।

6

लेखा द्रााखा

विभिन्न द्राीद्गर्ाो के तहत प्राप्त आवंटनों पर नियंत्रण रखना एवं भुगतान की कार्यवाही की जाना । कार्यालय में पदस्थ कर्मचारियों के वेतन-भत्तों का भुगतान एवं सामान्य भविद्गय निधि / विभागीय भविद्गयनिधि के लेखों का संधारण करने के साथ ही कर्मचारियों को सामान्य भविद्गयनिधि के भुगतान स्वीकृतियॉं, यात्रा देयक, चिकित्सा देयक, नेमित्तिक देयकों का भुगतान करने के साथ ही सेवानिवृत्त कर्मचारियों के स्वत्वों का भुगतान इस द्रााखा द्वारा किया जाता है। जिला/ तहसील कार्यालयों में गबन हानि के प्रकरण प्रकाच्च में आने पर उनमें प्रभावी कार्यवाही द्रााखा द्वारा की जाती है।

7

जनरल द्रााखा

द्राासकीय आवासों के आवंटन संबंधी कार्य एवं उसके मरम्मत आदि का कार्य एवं इस हेतु प्राप्त आवंटन का लेखा जोखा रखने का कार्य करने के अतिरिक्त जो कार्य अन्य द्रााखाओं में संपादित नहीं किया जाता है जिनकी प्रकृति सामान्य श्रेणी की है वह कार्य भी कार्यालय प्रमुख के आदेच्चानुसार इस द्रााखा द्वारा संपादित किया जाता है। विभागीय परीक्षा, लोक सेवा आयोग एवं कर्मचारी चयन आयोग द्वारा समय-समय पर आयोजित कराई जाने वाली परीक्षाओं के संचालन संबंधी कार्य किया जाता है। च्चस्त्र लायसेंस संबंधी कार्य एवं लोकसभा, विधानसभा, नगर पालिका एवं पंचायत निर्वाचन संबंधी कार्य भी इस द्रााखा में संपादित किया जाता है।

8

आडिट द्रााखा

द्रााखा द्वारा एक रोस्टर तैयार किया जाकर नियत समयावधि में संभाग के कलेक्टर, तहसील कार्यालयों के लेखा-जोखा संधारण का अंकेक्षण का कार्य संपादन किया जाता है।  अंकेक्षण के दौरान पाई गई कमियों की पूर्ति यथा समय कराई जाती है। अनियमितता पाये जाने पर संबंधित के विरूद्ध प्रभावी कार्यवाही की जाती है।
महालेखाकार द्वारा किये गये अधीनस्थ कार्यालयों की लेखा परीक्षा में पाई गई आपत्तियों का निराकरण समयसीमा में किये जाने हेतु अधीनस्थ कार्यालयों को पावंद किया जाता है। साथ ही कार्यालय की स्थापना/ लेखा की नस्तियों का वरिद्गठ के आदेच्चों के परिपालन में नियमों के अधीन परीक्षण किया जाता है।

9

विकास द्रााखा

पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग द्वारा संचालित विभिन्न योजनाओं के पर्यवेक्षण तथा निरीक्षण का कार्य किया जाता है जिस हेतु वाद्गर्िाक रोस्टर तैयार कर आयुक्त, अपर आयुक्त एवं उप आयुक्त, विकास द्वारा जिला/ जनपद कार्यालयों का निरीक्षण किया जाकर द्राासन निर्देच्चानुसार कार्यवाही करने की हिदायत दी जाती है। समय-समय पर मासिक एवं त्रेमासिक बैठकें आयोजित कर जिला एवं संभागीय अधिकारियों के साथ प्रगति की समीक्षा भी की जाती है। द्रााखा में इसके अतिरिक्त विभिन्न विभागों के (राजस्व को छोड़कर) वर्ग-2 राजपत्रित अधिकारियों के विरूद्ध विभागीय जांच संचालित कर लघुच्चास्ति से दंडित करने की कार्यवाही भी प्रचलित करने के साथ ही कलेक्टर एवं मुखय कार्यपालन अधिकारी, जिला पंचायत के दण्डादेच्च के विरूद्ध अपील/ पुर्नावलोकन आवेदनों की सुनवाई भी की जाती है। द्रााखा में वरिद्गठ अधिकारियों द्वारा सौपा गया सामान्य प्रगति का कार्य भी संपादित किया जाता है।

10

स्टेच्च्नरी

कार्यालय में पदस्थ अधिकारियों/ कर्मचारियों के उपयोग में आने वाली समस्त स्टेच्च्नरी का क्रय इस द्रााखा द्वारा किया जाकर पंजी में संधारित कर मांग अनुसार संबंधितों को वितरण करने की कार्यवाही की जाती है। कार्यालय में उपयोग आने वाले विभिन्न अधिनियमों/नियमों / गजट आदि का रख-रखाव पुस्तकालय के रूप में किया जाता है। आवच्च्यकतानुसार संबंधितों को पुस्तकों का प्रदाय पंजी में इंद्राज कर किया जाता है।

11

आवक-जावक

राज्य, जिला एवं तहसील स्तर के कार्यालयों से प्राप्त होने वाली एवं बाहर भेजे जाने वाले पत्रों का इंद्राज इन पंजियों में किया जाता है। इस हेतु स्टाम्प पंजी का भी संधारण किया गया है जिसमें प्रतिदिन का स्टाम्प का लेखा-जोखा का इंद्राज किया जाता है। अति महत्वपूर्ण किस्म के पत्रों जैसे अर्द्ध द्राासकीय पत्र, माननीय मंत्रियों एवं जनप्रतिनिधियों से प्राप्त पत्रों के इंद्राज हेतु प्ृाथक पंजी का संधारण किया गया है।

12

माफी

म.प्र.द्राासन धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व विभाग के अधीनस्थ आने वाले संभाग में स्थित सभी मंदिरों/ मस्जिदों आदि तथा वृन्दावन (उत्तरप्रदेच्च) में स्थित देवस्थानों के रख-रखाव तथा पूर्व से उपलब्ध तथा वर्तमान में निर्मित किये जाने वाली विभिन्न पंजियों / दस्तावेजों की सुरक्षा आदि का कार्य किया जाता है। इस हेतु वृन्दावन तथा म.प्र. में स्थित देवस्थानों हेतु प्रबंधक की भी नियुक्ति कीगई है, जो समय-समय पर उनकी देखरेख कर प्रतिवेदन माफी ऑफीसर को प्रस्तुत करता है, तदनुसार आगामी कार्यवाही कार्यालय स्तर से की जाती है। देवस्थानी भूमियों के विवाद के निराकरण आदि की न्यायालयीन कार्यवाही की देखरेख भी इस द्रााखा द्वारा की जाती है।

13

अभिलेखागार

कार्यालय की विभिन्न द्रााखाओं में संधारित नस्तियॉं जिनमें कोई कार्यवाही की जाना अवच्चेद्गा नहीं रहती है, उनको निच्च्चित समयावधि हेतु रिकार्ड द्राखा में जमा कराया जाता है। स्थाई प्रकृति के दस्तावेज जैसे सेवा-अभिलेख, व्हाउचर आदि स्थाई रूप से रखे जाते हैं। अस्थाई अभिलेख निच्च्चित समयावधि के पच्च्चात समाप्त कर अनुपयोगी कागजों को नीलामी द्वारा विक्रय कर दिया जाता है।

14

च्चिकायत द्रााखा

जन च्चिकायत निवारण विभाग/ जनता से प्राप्त च्चिकायतों का निराकरण कराने का कार्य इस द्रााखा द्वारा किया जाता है । प्राप्त च्चिकायतों का इंद्राज संबंधित पंजी में किया जाकर स्थिति अनुसार जांच/ प्रतिवेदन की कार्यवाही की जाकर निर्णय से संबंधितों को अवगत कराया जाता है। जन च्चिकायत निवारण विभाग से प्राप्त च्चिकायतों का इंद्राज कम्प्यूटर में किया जाकर तत्संबंध में की गई अंतरिम / अंतिम कार्यवाही की प्रविद्गिट की जाती है। इस संबंध में प्रतिवेदन नियमित रूप से प्रतिमाह द्राासन को भेजा जाता है। माह के प्रथम मंगलवार को तत्संबंध में राज्य द्राासन स्तर पर ली जाने वाली समीक्षा बैठक में प्रगति प्रतिवेदन प्रस्तुत किया जाता है।

15

टाईप/कम्प्यूटर

द्राासकीय कार्य टंकण करने हेतु कम्प्यूटर एवं टाईप मच्चीनों की समुचित व्यवस्था की गई है।